Rashi

राशि

राशि चक्र का हमारे जीवन में बहुत अधिक प्रभाव पड़ता है ब्रह्मांड में 27 नक्षत्र होते हैं तथा सवा दो नक्षत्र से मिलकर एक राशि बनती है कुल मिलाकर 12 राशियां होती है जातक के जन्म के समय ही उसकी राशि का निर्माण हो जाता है जन्म के समय चंद्रमा जिस भी राशि में विराजमान रहता है जातक की वहीं राशि मानी जाती है यहां पर हम आपको सभी राशियों का स्वभाव गुण दोष आदि के बारे में कुछ महत्वपूर्ण तथ्यों पर प्रकाश डालते हैं

मेष राशि

मेष राशि प्रथम राशि मानी गई है मेष राशि का स्वामी मंगल होता है जिसे कारण इसको अग्नि तत्व राशि भी माना गया है मेष राशि वाले जातक साहसी और पराक्रमी होते हैं नेतृत्व करना इनको भली-भांति आता है यह निर्भय और स्पष्ट वादी होते हैं इस राशि के जातक उग्र स्वभाव के भी होते जिस कारण कभी-कभी धैर्य की कमी दिखाई पड़ती है तथा करियर के क्षेत्र में इन लोगों को नेतृत्व करना बहुत अधिक भाता है मेष राशि के जातक करियर के क्षेत्र में ज्यादातर सेना स्पोर्ट्स सेल्स मार्केटिंग ठेकेदारी प्रॉपर्टी से संबंधित कार्यों में देखे जाते हैं

वृषभ राशि

वृषभ राशि सभी राशियों में दूसरे नंबर की राशि मानी जाती है यह पृथ्वी तत्व राशि है वृषभ राशि के स्वामी शुक्र ग्रह होते हैं इस राशि में जन्मे व्यक्ति स्थिर स्वभाव के होते हैं वृषभ राशि में जन्मे व्यक्ति सुंदर और अट्रैक्टिव पर्सनैलिटी के होते हैं तथा विभिन्न प्रकार के व्यंजन तथा स्वादिष्ट भोजन करना उनको बहुत अत्यधिक पसंद है यह बहुत ही मेहनती और सहनशील भी होते हैं इस राशि में जन्मे व्यक्तियों को फैशन बहुत अधिक प्रभावित करता है तथा फिल्म संगीत और नृत्य में भी इनकी बहुत ही अधिक रूचि होती है सौंदर्यता से संबंधित कार्य इन लोगों के लिए बहुत ही अच्छा माना जाता है तथा गारमेंट सेक्टर में भी यह लोग बहुत अधिक रुचि रखते हैं

मिथुन राशि

मिथुन राशि के स्वामी बुध ग्रह होते हैं तथा यह तीसरे नंबर की राशि होती है इस राशि में जन्मे व्यक्तियों का स्वभाव परिवर्तनशील होता है यह आकाश तत्व राशि है इसी कारण इस राशि में जन्मे लोग बहुत ही टैलेंटेड और जिज्ञासु होते हैं मिथुन राशि दि:स्वभाव राशि भी है जो स्त्री और पुरुष के मेल से बनी है इसी कारण मिथुन राशि के जातक कभी-कभार निर्णय लेने में बहुत ही अधिक विलंब लगाते हैं मिथुन राशि के जातक उच्च विचारों के होते हैं तथा विचारों का आदान-प्रदान अच्छे से कर सकते हैं अकेले रहना इन लोगों को पसंद नहीं होता है ये लोग ज्यादातर शिक्षक प्रवक्ता अकाउंटेंट पत्रिका लेखन आदि के क्षेत्र को चुनते हैं तथा ये अविष्कार प्रेमी भी होते हैं

कर्क राशि

कर्क राशि के स्वामी चंद्र ग्रह होते हैं तथा यह चौथे नंबर की राशि मानी जाती है इस राशि में जन्मे व्यक्ति अपने घर तथा बंधु बांधों से बहुत अधिक लगाव होता है लोगों के अंदर चंचलता शीतलता भावुकता संवेदनशीलता बड़ी होती है या हमेशा बड़े परिवार की चाहत रखते हैं जहां जाते हैं घर जैसा माहौल बना लेते हैं समाज कल्याण की भावना भी उनके अंदर बहुत होती हैं चंद्रमा के अंदर 16 प्रकार की कलाएं होती हैं तथा इस राशि में जन्मे व्यक्ति राजनीतिक मीडिया मेडिकल तथा कला के क्षेत्र में माहिर होते हैं यह लोग चंचल स्वभाव के भी होते हैं जल्दी से निराश तथा उदास हो जाना उनके नकारात्मक लक्षण है तथा यह लोग कार्य के अनुरूप बहुत जल्दी ही ढलने की एक अद्भुत कला इनके पास होती है

सिंह राशि

सिंह राशि सभी राशियों में पांचवी राशि मानी जाती है तथा इस राशि के स्वामी सूर्य देव होते हैं सूर्य जो कि ग्रहों का राजा माना जाता है सिंह राशि में जन्मे व्यक्तियों का स्वभाव बहुत ही सरल होता है यह किसी की अधीनता स्वीकार नहीं करते हैं तथा सिंह राशि में जन्मे व्यक्ति को स्पष्टवादी होते हैं यह दिखने में बाहर से कठोर लेकिन अंदर से नारियल की तरह कोमल होते हैं नेतृत्व करने की क्षमता बहुत अधिक होती है यह एक अग्नि तत्व राशि है सिंह राशि के जातक प्रशासनिक चिकित्सक बिजनेस आदि संस्थाओं में कार्य करते हैं यह लोग बहुत मेहनती भी होते हैं भाग्यशाली भी बहुत ज्यादा होते हैं यह जल्दी किसी व्यक्ति को मित्र नहीं बनाते हैं लेकिन जब बनाते हैं तो दिल से उसका साथ भी निभाते हैं

कन्या राशि

कन्या राशि सभी राशियों में छठी राशि होती है कन्या राशि के स्वामी बुध ग्रह होते है यह पृथ्वी तत्व राशि है इस राशि में जन्मे व्यक्ति बहुत ही विद्वान मेहनती और कर्तव्य परायण होते हैं इस राशि में जन्मे व्यक्ति अकाउंटेंट लेखक पत्रकार तथा मनोवैज्ञानिक शिक्षक होते हैं क्योंकि बुध अन्न से भी संबंधित है तो कृषि के क्षेत्र में भी यह लोग कार्यरत होते हैं यह बहुत सोच समझ कर पैसा खर्च करते हैं और जितना संभव होता है बचत करने की कोशिश भी करते हैं

तुला राशि

तुला राशि राशि चक्र की सातवीं राशि होती है तुला राशि के स्वामी शुक्र होते हैं इस राशि में जन्मे व्यक्ति हर चीज को बैलेंस करके चलते हैं यह एक वायु तत्व राशि है तथा इस राशि के जातक को अकेले रहना बिल्कुल पसंद नहीं होता है इसलिए यह लोग टीम में काम करना पसंद करते हैं इस राशि में जन्मे व्यक्ति बहुत ही रोमांटिक होते हैं तथा काफी प्रतिभाशाली भी होते हैं तुला राशि वाले जातक अपने पार्टनर से अत्यधिक प्रेम करते हैं इनकी आवाज में मिठास होती है तथा चेहरे पर मुस्कान हमेशा दिखाई देती है गारमेंट्स तथा खाने-पीने से संबंधित कार्य में यह बहुत अधिक लाभ कमाते हैं

वृश्चिक राशि

वृश्चिक राशि सभी राशियों में आठवें नंबर की राशि होती है इस राशि के स्वामी मंगल देव होते हैं मंगल जो कि सभी ग्रहों में सेनापति की उपाधि प्राप्त है तथा यह एक जल तत्व की राशि है वृश्चिक राशि वाले जातक दृढ़ इच्छा शक्ति संकल्पवान तथा बहुत मेहनती होते हैं इस राशि में जन्मे व्यक्ति किसी के नीचे काम करना पसंद नहीं करते हैं तथा ये लोग स्वभाव से प्रैक्टिकल होते हैं अपनी भावनाओं को अच्छे से छुपा लेते हैं और अपने जीवनसाथी के प्रति बहुत ही ईमानदार होते हैं यह लोग कड़ी मेहनत से अपना पैसा अर्जित करते हैं और ज्यादा खर्च करने में इच्छा नहीं रखते हैं इस राशि के जातक मनोवैज्ञानिक प्रशासनिक क्षेत्र सेना आदि क्षेत्र में विशेष रूप से सफल होते हैं

धनु राशि

नौवीं राशि धनु राशि मानी जाती है धनु राशि के स्वामी गुरु बृहस्पति होते हैं यह एक अग्नि तत्व राशि है क्योंकि यह पूर्व दिशा को दर्शाती हैं इसीलिए धनु राशि के जातक बहुत ही आत्म विश्वासी होते हैं यह लोग काफी सोच समझकर निर्णय लेने वाले होते हैं तथा ये काफी धार्मिक स्वभाव के भी होते हैं व्यवहारिक ज्ञान इन लोगों को बहुत अधिक होता है यह लोग काफी अनुशासित तथा ईमानदार और विश्वासपात्र भी होते हैं धनु राशि वाले व्यक्ति तर्क सम्मत बात करना पसंद करते हैं ईश्वर में इनकी बहुत अधिक आस्था होती है तथा यह लोग शिक्षक लेखक एस्ट्रोलॉजर राजनीति क्षेत्र में काफी अधिक सफल होते हैं

मकर राशि

दसवीं राशि के रूप में मकर राशि को देखा जाता है इस राशि के स्वामी शनि देव होते हैं यह पृथ्वी तत्व राशि है क्योंकि दक्षिण दिशा को दर्शाती है इस राशि के स्वामी शनि देव होने के कारण यह लोग बहुत मेहनती है वफादार तथा न्याय संगत होते हैं यह लोग जल्दबाजी में कोई निर्णय नहीं लेते हैं काफी सोच समझ के बाद ही अपने विचारों को तथा निर्णय को दर्शाते हैं यह लोग अपने मित्रों के लिए काफी हेल्पफुल होते हैं इस राशि में जन्मे व्यक्ति काफी भरोसेमंद होते हैं इस राशि में जन्मे व्यक्ति प्राय: आलसी तथा प्रत्येक काम को करने के लिए ज्यादा वक्त लेते हैं यह लोग ज्यादातर साइंटिस्ट गणितज्ञ बैंकिंग कंस्ट्रक्शन मेडिकल टेक्निकल तथा लोहे से संबंधित कार्य ट्रांसपोर्टेशन टूर एंड ट्रेवल्स क्षेत्र में काफी अधिक सफल होते हैं

कुंभ राशि

राशि चक्र के 11वीं राशि कुंभ राशि मानी जाती है इस राशि के स्वामी भी शनि देव होते हैं यह एक आकाश तत्व की राशि है पश्चिम दिशा को भी दर्शाती है तथा इस राशि में जन्मे व्यक्ति दृढ़ निश्चयी होते हैं आत्मविश्वास बहुत अधिक होता है कुंभ राशि के जातक को घर से बहुत ही लगाव होता है दूरदृष्टि सोच इन लोगों की बहुत अधिक होती है इस राशि में जन्मे व्यक्ति का विवाह में थोड़ा विलंब होता है तथा उम्र के साथ-साथ मोटापे की भी शिकायत रहती है किंतु इस राशि के लोग स्वास्थ्य के प्रति बहुत गंभीर होते हैं तथा कार्य क्षेत्र की दृष्टि से इस राशि में जन्मे लोग ज्यादातर ठेकेदारी सरकारी विभाग तथा व्यापार क्षेत्र में काफी अधिक सफल होते हैं

मीन राशि

बारहवीं तथा अंतिम राशि के रूप में हम मीन राशि को देखते हैं यह एक जल तत्व राशि है और मीन राशि के स्वामी जो कि गुरु बृहस्पति होते हैं उत्तर दिशा को यह राशि दर्शाती है मीन राशि में जन्मे व्यक्ति बहुत ही अधिक धनी ज्ञानी तथा बुद्धिमान होते हैं क्योंकि यह एक द्विस्वभाव राशि है इसीलिए इस राशि में जन्मे जातक अस्थिर स्वभाव के भी होते हैं उनको दिखावा बिल्कुल पसंद नहीं होता है तथा यह लोग अनुशासन प्रिय होते हैं इसके अलावा कार्य क्षेत्र की दृष्टि से यह लोग मोटिवेटर डॉक्टर प्रोफेसर तथा पॉलिटिक्स के क्षेत्र में काफी अधिक सफल होते हैं।