Consultation call us

Marriage life journey
August 19, 2020
Career growth
August 31, 2020

Consultation call us

जब आपके जीवन में सोलमेट का प्रवेश होता है तब आपको उसका आभास हो जाता है आप उसी भावना को महसूस करने लग जाते हैं जैसा कि इससे पहले इतना प्यार आपको कभी भी ना किसी के साथ हुआ होगा और ना भविष्य में होगा और यह प्रेम पहली बार में ही महसूस होने लग जाता है जैसे आप के आस पास आपका सोलमेट आता है उसी क्षण उसी समय में आपको अचानक से प्रेम महसूस होने लग जाता है इसके साथ ही आपको उसके साथ शारीरिक और मानसिक लगाव  शुरू हो जाता है और उसी समय में पूर्ण शांति खुशी एवं आत्म संतुष्टि का अनुभव होता है और उस भावना में जीवन भर आप  बहना चाहेंगे और बहते रहेंगे एक बार आपका सोलमेट का प्रेम शुरू होने के पश्चात वह प्रेम आपके साथ आजीवन रहेगा उस प्रेम में आपको अलौकिक ज्ञान अलौकिक आनंद का अनुभव होता रहेगा इसमें बिना शारीरिक संबंध के पूर्ण प्रेम का आभास होने लगता है और इस अलौकिक प्रेम में  आपकी आत्मा बहने लगती है और इसी प्रकार से आपके सोलमेट को भी इस तरह की भावना जागृत हो जाती हैं यदि एक बार दोनों को यह प्रेम जागृत हो जाए तो इसके साथ अधिक प्रेम और प्रेम का दर्द भी महसूस होता है अगर आपके सोलमेट से एक बार मुलाकात हो जाती है तो उसी समय से आपके अंदर अत्यंत प्रेम जागृत होता है और आपको लगता है कि उस व्यक्ति से कई बार प्रेम में पड़ चुके हैं और यह  प्रेम की ऊंचाइयों तक ले जाता है और आप अत्यंत आनंद का अनुभव करते हैं इसके साथ शरीर का संबंध ना हो तो भी आपकी आत्मा बार-बार उन्हें जागृत अवस्था में महसूस करती है और यदि आपका सोलमेट जिस जगह भी होगा वह आपके पास खिंचा चला आता है इससे आपको बार-बार उस व्यक्ति से मिलने की इच्छा जागृत भी होती है और कभी कभी नहीं मिलने से भी परिपूर्णता का अनुभव करते हैं कारण यह है कि उसी समय में वह आपसे बिना मिले परिपूर्णता महसूस करता है अगर आप उससे मिलते रहेंगे तो पूरे जीवन का प्रेम वह एक क्षण में महसूस करने लगते हैं यह सोलमेट प्रेम ब्रह्मांड में चुंबक की तरह काम करता है सोलमेट एक ऊर्जा है और यह हर व्यक्ति के अंदर हर किसी के साथ इस ब्रह्मांड में लिप्त है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *